भोजन के शास्त्रीय नियम: प्राचीन मान्यताये the-ancient-food-philosophy-in-india

यदि कुछ बातों पर ध्यान दिया जाए तो स्वास्थ्य की प्राप्ती होगी| साथ ही देवी-देवताओं की कृपा होगी| भोजन के शास्त्रीय नियम:

आज हम यहांपर कुछ ऐसीही प्राचीन मान्यताओं के बारे में बताने जा रहे है| जिनको आपको भोजन के वक्त ध्यान रखना चाहिए|

कुछ प्राचीन मान्यताये जिन्हें भोजन के दौरान अपनाना चाहिए| The ancient food philosophy in india
ऐसा करने से बढ़ेगी उम्र।
खाना खाने से पहले पांच अंगों को यानि दोनों हाथ, दोनों पैर और मुख को धो लेना चाहिए| उसके बाद ही भोजन करना चाहिए|
मान्यता के अनुसार भीगे हुए पैरों के साथ भोजन करना बहुत शुभ है|
भीगे हुए पैर हमारे शरीर का तापमान नियंत्रित करते हैं|  इससे पाचनतंत्र की समस्त ऊर्जा भोजन को पचाने में लग जाती है| पैर भिगोने से हमरे शरीर की अतिरिक्त गर्माहट भी कम हो जाती है| अत: गैस, एसिडिटी की संभावना भी काफी कम होती है| इससे स्वास्थ्य का लाभ भी होता हैं और हमारी आयु भी बढती है|

ये भी पढे शुद्ध शहद की पहचान कैसे करे? how to check honey is pure – Gharelu Nuske

भोजन करते समय दिशाओं पर ध्यान दे|

खाना खाते समय हमारा मुह पूर्व और उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए| इससे हमारे शरीर को खाने से मिलने वाली ऊर्जा पूर्ण रूप से मिल जाती है|
प्राचीन मान्यताओं के अनुसार दक्षिण दिशा की ओर मुंह करके भोजन को ग्रहण करना अशुभ है| वही पश्चिम दिशा की ओर मुंह करके भोजन करने से रोगों की वृद्धि हो जाती है|

ऐसे स्थिति में कभीभी भोजन ना करे|

  • बिस्तर पर बैठकर कभी भी भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए|
  • खाने की थाली को हाथ में लेकर भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए|
  • भोजन को हमेशा बैठकर ही ग्रहण करना चाहिए|
  • भोजन का ग्रहण रसोईघर में ही करना चाहिए।

जान लें भोजन के शास्त्रीय नियम:

  • भोजन की थाली को किसी बाजोट या लकड़ी की पाटे पर रखकर भोजन ग्रहण करना चाहिए|
  • खाने के बर्तन साफ होने चाहिए|
  • टूटे-फूटे बर्तन में भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए|
  • खाना खाने से पहले यह उपाय भी अवश्य करें
  • भोजन करने से पहले अन्न देवता, अन्नपूर्णा माता का स्मरण करे|
  • भोजन ग्रहण करते वक्त देवी-देवताओं को भोजन के लिए धन्यवाद दे| साथ ही यह प्रार्थना करें कि सभी भूखे जीवों को भी उचित मात्रा में भोजन प्राप्त हो|
  • परोसे हुए भोजन की निंदा कभीभी ना करे| इससे अन्न का अपमान हो जाता है|
  • पक्वान्न बनाते वक्त इन बातों का ध्यान रखना चाहिए
  • भोजन बनाने से पहले व्यक्ति को स्नान करके और पूरी तरह से पवित्र होकर शुद्ध मन से भोजन बनाना चाहिए|
  • स्वादिष्ट भोजन बनाते समय मन शांत रखना चाहिए|
  • भोजन बनाते वक्त किसी की बुराई ना करें|
  • किसी भोजन बनाने को शुरुवात करने से पहले इष्टदेव का ध्यान करे| चाहे तो किसी देवी-देवता के मंत्र का जप भी कर सकते है|
  • ऐसा करनेसे खाना स्वादिष्ट बनेगा और अन्न की कमी नहीं होगी|

ये भी पढे : 27 साल की विधवा हु। मेरा झगड़ालू स्वभाव है। बदलना चाहती हु

तो क्या आप इन सबका पालन करेंगे? आजकल की जिन्दगी में क्या यह संभव है? क्या यह विचार आज की जिन्दगी के लिए भी लागु पड़ते है? विचार जरुर शेअर करे|

आशा है आपको "भोजन के शास्त्रीय नियम: प्राचीन मान्यताये THE-ANCIENT-FOOD-PHILOSOPHY-IN-INDIA" यह जानकारी पसंद आई होगी|

निवेदन: इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया पर जरुर शेअर करे ताकि दूसरों को भी इसका फायदा हो सके|

धूम्रपान छोड़ने का आसान तरीका

तांबे के बर्तन में खाने-पीने के हैं अनगिनत फायदे

रात के समय क्या नहीं खाना चाहिए?

रात में स्मार्टफोन इस्तेमाल करने से क्या नुकसान होता है ?

1 thought on “भोजन के शास्त्रीय नियम: प्राचीन मान्यताये the-ancient-food-philosophy-in-india”

Leave a Comment