बदलते मौसम के अनुसार खानपान में क्या परिवर्तन होना चाहिये ?

जिस तरह बदलते वक्त के साथ खुद को बदलना चाहिए ठीक वैसे ही बदलते मौसम के अनुसार खानपान में भी बदलाव जरूर करना चाहिए क्योंकि मौसम और जलवायु का व्यक्ति के जीवन में बहुत प्रभाव पड़ता है। मौसम बदलने से व्यक्ति के शरीर में भी परिवर्तन आता है। आज हम अपने ब्लॉग में बदलते मौसम के साथ अपने आहार में कैसे परिवर्तन करेंगे इस विषय में चर्चा करेंगे।

सर्दी का मौसम और खानपान

आमतौर पर सर्दी का मौसम काफी लंबा होता है क्योंकि सर्दी के दिनों में आराम करने के लिए लंबा रात मिलता है। सर्दी के मौसम में भूख भी ज्यादा लगती है और खाना भी जल्दी पच जाता है क्योंकि आराम करने के लिए काफी समय मिलता है। सर्दी के मौसम में कोशिश हमेशा खाते पीते रहना यदि पेट खाली रहेगा तो बीमारी हो सकती है।

ये भी पढे बारिश में होनेवाली बीमारिया और सावधानी और बचाव के असरदार घरेलू उपाय – (gharelunuske.com)

जब होता है सर्दी का मौसम, तो खाए ये पदार्थ

  • सर्दी के मौसम में घी, मक्खन, चने इत्यादि पदार्थों को जरूर अपने खाने में शामिल करना चाहिए।
  • हल्का गर्म पानी पीना चाहिए।
  • खटाई से बने हुआ खाना खाना चाहिए।
  • शरीर को फिट करने के लिए रोजाना योगासन भी करना चाहिए।

बरसात का मौसम और खान पान

बारिश के मौसम में पानी बरसने के कारण वातावरण में गंदगी फैल जाती है और इसी कारण से लोग बीमार भी बहुत ज्यादा पड़ते हैं। मलेरिया,डेंगू , हैजा इत्यादि बीमारी भी बरसात के दिनों में होती है।

इस बरसात के मौसम में खाये ये व्यंजन

  • यदि आपको डाल पसंद है तो आप बरसात के दिनों में अरहर एवं मूंग का दाल पी सकते हैं।
  • ज्यादा से ज्यादा फल खाने का प्रयास कीजिए।
  • अपने खाने में ऐसी चीजों को शामिल कीजिए जो आपको वात से रक्षा कर सकता है।
  • बरसात के दिनों में कोशिश कीजिए गरम खाना खाने की।

गर्मी का मौसम और खान पान

आमतौर पर गर्मी के मौसम में तापमान बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। अत्यधिक तापमान के कारण आसपास का वातावरण सूखा हो जाता है। शरीर में पसीना ज्यादा होता है जिसके कारण शरीर में पानी की कमी होने लगती है।

जब हो गर्मी का मौसम तो खाने में उपयोग करें ये चीजे

  • गर्मी के समय में ऐसा खाना खाना चाहिए जो आसानी से शरीर में पच जाए।
  • यदि आपको छाछ पीना बहुत पसंद है तो गर्मी के मौसम में छाछ अवश्य पीजिए।
  • फल के साथ-साथ आंवले का मुरब्बा जरूर खाइए।
  • मसालेदार खाना बिल्कुल भी ना खाएं।

वसंत का मौसम और खानपान

बसंत के मौसम को सुहावना मौसम भी कहा जाता है। पूरी प्रकृति बसंत ऋतु के कारण बेहद सुंदर दिखाई देती है। इस मौसम में कफ़ से संबंधित रोग होने की संभावना ज्यादा होती है। कभी व्यक्ति का जीव मचलता रहता है।

ये भी पढे मेरी बेटी को वायरल इन्फेक्शन होता है। घरपर सिरप कैसे बनाये ?

वसंत के मौसम में ये पदार्थ खाये

  • हल्का खाना खाए।
  • बसंत ऋ्तु में जो फल सबसे ज्यादा बिकता है उसे जरूर रोजाना खाइए।
  • खसखस, नींबू आदि का जूस जरूर पीजिए।

शरद के मौसम में खानपान

जैसे ही शरद ऋतु से बरसात की शुरुआत होने लगती है। शरीर का रक्त दूषित हो जाता है। वर्षा के कारण शरीर में पित्त जम जाता है। ऐसे में खानपान का खास ख्याल रखना होता है।

याद रखें शरद ऋतु में ये चीजे खानी चाहिये

  • शरीर में पीत्त ना जमे इसीलिए घी और मसालेदार खाना खाना चाहिए।
  • आमला का सेवन जरूर करें।
  • लिक्विड पदार्थ का सेवन ज्यादा करना चाहिए।

हमने अपनी ओर से छोटा सा प्रयास किया है। आप सबके लिए हमने बताया कि बदलते मौसम के साथ कैसा खाना चाहिए।

हृदय रोग के कारण, लक्षण और प्राकृतिक उपचार

हल्दी से रोगों का इलाज | haldi se 10 rogo ka ilaj

हम मंदिर की परिक्रमा क्यों लगाते है?

स्वस्थ, तनावरहित जीवन के लिए बेस्ट १० टिप्स tips for healthy lifestyle

Leave a Comment