इस वक्त पानी पीना हो सकता है जहर! worst time to drink water

worst time to drink water शीर्षक देखकर थोडा अजीब लगा? तो चलिए अब इसे हम थोड़ा सा  विस्तार में चर्चा कर लेते है|

हम सभी यह तो जानते ही हैं की पानी पीना सेहत के लिए अच्छा रहता है | पर क्या आप जानते हैं कि

यही पानी अगर आप गलत समय/तरीके से पीते है तो आपको बीमारियों का सामना भी करना पड़

सकता है| पानी पीने का सही तरीका जाने (worst time to drink water)

पानी कब पिए? worst time to drink water

भोजन के बिच में ५-६ घूंट पानी पी सकते है|

उल्टी /दस्त आदि के समय पानी थोड़ा -थोड़ा करके लगातार नमक शक्कर के साथ पानी पीना चाहिए।

गर्मी के दिनों में आप मटके का ठंडा पानी पिएं | यह आपकी सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद रहेगा |

हो सके उतना तांबा से हि पाणी पिये| धीरे-धीरे  घूंट-घूंट पीना चाहिए, जैसे की चिड़िया पानी पीती है |

इससे शरीर के तापमान के अनुसार वह पेट में पहुँच जायेगा| हमारी लार भी इसके साथ हमारे

पेट में चली जाएगी, जो की कई अनगिनत बिमारियोंसे हमें बचाती है|पानी की शुद्धता– पानी में

तुलसी के पते डाले रखें। इससे पानी शुद्ध रहता है | यदि हाई ब्लड प्रेशर/ बुखार/कब्ज / पेट

में जलन आदि तरह की समस्या हो तो अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए।

ये भी पढे : Wart removal home remedies । अनचाहे मस्से हटाने के घरेलु नुस्खे - Gharelu Nuske

पानी कब ना पिए?

खाना खाने से आधा घंटे पहले पानी नहीं पीना चाहिए |इससे आपकी पाचन शक्ति कमजोर

हो जाती है।

खाना खाने के बाद एक घंटे तक पानी नहीं पीना चाहिए| इससे कब्ज की

शिकायत हो जाती है | अगर खाना खाने के बाद पानी पीने की ज्यादा इच्छा हो तो सुबह के

समय जूस ,दोपहर के  समय लस्सी या दही, रात को दूध ले | ध्यान दे की इनका क्रम बिलकुल

न बदले जैसे की सुबह दूध आदि।

नवप्रसूता ( नवजात शिशु की माँ ) को बहुत अधिक पानी नहीं पीना चाहिए। शरीर में पानी की

कमी ना हो उसके लिए गुनगुना दूध आदि तरल पदार्थ ज्यादा लेने चाहिए।

फ्रिज का ठंडा पानी किसीभी किस्म की व्यक्ति को नहीं पीना चाहिए।  

जुकाम, फ्लू, खांसी, हिचकी, पेट दर्द, लकवे की तकलीफ से पीड़ित व्यक्तियों को

गलती से भी ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए। पानी कभी भी एक साथ पीना नहीं चाहिए।

इस वक्त पानी पीना हो सकता है जहर! worst time to drink water

सावधान इस वक्त पानी पीना हो सकता है जहर!

गिलास या बोतल से पानी न पियें| पानी ऊपर से या एक साथ पिने से वायुदोष पैदा होता है

और हवा ऊपर उठकर बदहजमी, खट्टी डकारें, अपचन जैसी बीमारियाँ हो जाती हैं।

अत: पानी ऊपर से ना पिए| सोकर उठने के तुरन्त बाद चाहे दिन हो या रात तुरन्त पानी

नहीं पीना चाहिए। क्योंकि इससे जुकाम, सिर दर्द आदि होने का खतरा रहता है।

पके फल जैसे ककड़ी, खीरा, तरबूज, खरबूजा खाने के बाद तुरन्त पानी नहीं पीना चाहिए।

गर्म दूध/चाय पीने के बाद, धूप से आने के बाद तुरन्त पानी नहीं पीना चाहिए।

पेशाब करके तुरंत पानी नहीं पीना चाहिए और न ही पानी पीकर तुरंत पेशाब करना चाहिए।

इससे पाचन तंत्र तथा गुर्दे कमजोर हो सकते हैं।

अच्छी सेहत के लिए निम्नलिखित में से पानी नहीं पीना चाहिए|

इस वक्त पानी पीना सेहत के लिए ठीक नहीं होता।

  • कठिन परिश्रम या व्यायाम करने के बाद,
  • स्त्री-संसर्ग के बाद,
  • धूप से ठंडे में आने के तुरंत बाद,
  • चिकने/ तले पकवानों के सेवन के बाद,
  • भुनी मूंगफली खाने के तुरंत बाद,
  • मल त्याग के बाद

कितना पानी पीना चाहिए (how much water should i drink)

  • -गर्म जलवायु में रहने वाले लोगो को कम से कम आठ लीटर पानी पीना चाहिए।
  • -बीमारी के समय भी पीना चाहिए, जिससे शरीर के अंदर ठण्डक पहुँचे और शरीर का तंत्र अछेसे शुरू हो | स्वस्थ शरीर ही बीमारी से लड़ सकता है।
  • -सुबह उठते ही खाली पेट २ गिलास हल्का गर्म पानी पीएं ।इससे आपके शरीर की सारी गंदगियां पेशाब के जरिए बाहर निकलेगी|
  • -रात को सोने से पहले तीन घूंट पानी पीना, स्वास्थ्यवर्धक होता है।
  • -दिन में ज्यादा पानी पीयें| जैसे जैसे शाम होने लगे, पानी की मात्रा को कम कर देनी चाहिए| इससे आपको बार बार बाथरूम की ओर जाने की जरुरत महसूस नहीं होगी| अत: आपकी नींद भी बिना रुकावट पूरी हो जाएगी |

पानी पीनेका सही समय (correct time to drink water)

  • जब प्यास लगी हो, लेकिन कुछ नियमों के अनुसार किया गया सेवन अधिक लाभकारी होता है।
  • व्यायाम करने से पहले थोड़ासा पानी पी लें, जिससे आपकी मासपेशियों को ताकद मिल सके।
  • रात को तांबे के लोटे पानी भरकर रखिये और सवेरे सोकर उठने के बाद इसका सेवन करे | इससे शौच खुलकर होगी और बवासीर जैसे कठिन रोग नहीं होंगे।
  • उपवास या व्रत में बार – बार पानी पीना चाहिए। इससे शरीर में बनने वाले हानिकारक एसिड पेशाब के साथ बाहर निकल जाता है।
  • एक दिन में लगभग दो से तीन घंटे के अंतर पानी जरुर पीना चाहिये क्योंकि इससे अंत:स्रावी ग्रंथियों का स्राव पर्याप्त मात्रा में निकलता रहता है तथा यह स्राव शरीर को स्वस्थ बनाये रखता है।

Leave a Comment