16.6 C
New York
Sunday, June 16, 2024

Buy now

तांबे के बर्तन में खाने-पीने के हैं अनगिनत फायदे

स्वस्थ रहने के लिए हम सभी को पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। हालांकि, ज्यादातर लोग पानी पीने के लिए या तो स्टील का या कांच के गिलास का उपयोग पानी पीने के लिए करता है। लेकिन डॉक्टरों का कहना है कि पानी पीने के लिए ना ही स्टील सही है और ना ही कांच। अब सवाल यह उठता है कि आखिर व्यक्ति पानी पिएं तो कैसे पिएं?

तांबे के बर्तन का राज़

प्राचीन काल से ही हम पीने के पानी को तांबे के बर्तन में रखने की आदी रहे हैं। ताकि इसके सेवन से अधिकतम लाभ प्राप्त किया जा सके। हालांकि बीच में हम इस तरह की प्रथाओं से हम भटक गए थे, लेकिन देर से ही सही, चीजें फिर से बदलने लगी हैं और हम सभी सुपर हेल्थ के प्रति जागरूक हो गए हैं। इसमें एंटीमाइक्रोबियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-कार्सिनोजेनिक, एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।

तांबे से जुड़ा राज-

उच्च रक्तचाप को कंट्रोल करता है

शरीर में कॉपर का स्तर कम होने से ब्लड प्रेशर असंतुलित हो जाता है। इस दुनिया में आजकल हर 10 लोगों में से सात लोगों को हाई प्रेशर की बीमारी है। तांबे की पर्याप्त उपस्थिति कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने के लिए जानी जाती है, जिससे उच्च रक्तचाप की समस्या दूर रहती है।

पाचन के लिए अच्छा है

तांबे के बर्तन में पानी पीने से पाचन क्रिया तेज होती है। ऐसा एक्सपोर्ट मानते हैं। यह बात सच है कि विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में सहायता करता है, खराब बैक्टीरिया को मारता है, पेट की सूजन को कम करता है, चयापचय में सुधार करता है। बस यह सुनिश्चित करें कि गर्म पानी न डालें, या तांबे के बर्तन में नींबू पानी जमा न करें। सादा पानी तांबे की बोतल में भरकर ही पिएं।

शरीर पर उम्र बढ़ने के प्रभाव को कम करता है–

कॉपर एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और कोशिकाओं को पुन: जिंदा करने के लिए जाना जाता है। यह मुक्त कणों के हानिकारक प्रभावों से लड़ने में मदद करता है, जिससे उम्र बढ़ने की समस्याओं का ख्याल रखा जाता है। तांबे में उम्र बढ़ने की प्रक्रिया में बाधा डालने के जादुई गुण होते हैं।

संक्रमण को कम करता है

कॉपर एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है, तांबे की बोतलों में 8 घंटे से अधिक समय तक संग्रहीत पानी सभी माइक्रोबियल से मुक्त होता है। कॉपर अन्य सामान्य जलजनित रोग पैदा करने वाले एजेंटों के बीच ई. कोलाई, एस. ऑरियस और हैजा बेसिलस के खिलाफ प्रभावी है।

थायराइड ग्रंथि के कार्य में सहायता करता है

विशेषज्ञों के अनुसार, थायराइड के रोगियों में सबसे आम विशेषता अगर कुछ है तो वह तांबा है। कॉपर थायरॉयड ग्रंथि की विसंगतियों को संतुलित करता है, थायरॉयड ग्रंथि को अच्छी तरह से काम करने के लिए सक्रिय करता है, लेकिन यह थायरॉयड ग्रंथि से बहुत अधिक स्राव के हानिकारक प्रभावों से भी लड़ता है। जहां तांबे की कमी से थायरॉयड ग्रंथि खराब हो जाती है, वहीं यह भी सच है कि बहुत अधिक तांबा भी थायरॉयड ग्रंथि की शिथिलता का कारण बनता है, जिससे रोगियों में हाइपर या हाइपोथायरायडिज्म होता है।

तांबे के बर्तन के फायदे : स्ट्रोक रोकता है

कॉपर में ऐंठन-रोधी गुण भी होते हैं, जिसका अर्थ है कि कॉपर दौरे को रोकने का एक प्रभावी साधन है। तांबे में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं, जिसका अर्थ है कि तांबे की कमी से ऑक्सीडेंट्स तेजी से और बेहतर तरीके से काम कर सकते हैं, जिससे स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है।

क्या सचमुच किताबें पढ़ने से आयु बढ़ती है? – My Jivansathi

रात के समय क्या नहीं खाना चाहिए? – Gharelu Nuske

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles